Essay on Side Effects of Junk Food in Hindi | जंक फूड के साइड इफेक्ट पर निबंध



हम यहाँ  जंक फूड के साइड इफेक्ट पर (Essay on Side Effects of Junk Food in Hindi) 10 Lines और 300 शब्दो का निबंध उपलब्ध करा रहे हैं। आजकल, विद्यार्थियों के लेखन क्षमता और सामान्य ज्ञान को परखने के लिए शिक्षकों द्वारा उन्हें निबंध और पैराग्राफ लेखन जैसे कार्य सर्वाधिक रुप से दिये जाते हैं। इन्हीं तथ्यों को ध्यान में रखत हुए जंक फूड के साइड इफेक्ट पर निबंध तैयार किये हैं। इन दिये गये निबंधो में से आप अपनी आवश्यकता अनुसार किसी का भी चयन कर सकते हैं ।

जंक फूड के साइड इफेक्ट पर 10 पंक्तियां निबंध | 10 Lines Essay on Side Effects of Junk Food in Hindi

1. अस्वास्थ्यकर भोजन को जंक फूड के रूप में भी जाना जाता है।

2. जो फास्ट-फूड हम खाते हैं वह अस्वास्थ्यकर भोजन की श्रेणी में आता है।

3. अस्वास्थ्यकर भोजन अंततः एक के शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव दिखाएगा

4. साथ ही, यदि आप लंबे समय तक स्वस्थ भोजन का भंडारण करते हैं, तो यह अस्वास्थ्यकर भोजन भी बन जाता है।

5. अगर आप प्लास्टिक की थैलियों में फलों और सब्जियों को पैक करते हैं, तो वे भी अस्वस्थ हो जाते हैं।

6. अस्वास्थ्यकर भोजन शरीर की वृद्धि को रोकता है और इसे मोटा बनाता है।

7. अगर आप नियमित रूप से अस्वास्थ्यकर भोजन खाते हैं, तो यह आपके विकास को रोक देगा और आपके दिमाग को भी प्रभावित करेगा।

8. सड़े हुए फल और सब्जियां अस्वास्थ्यकर हैं और आपके जिगर और आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं।

9. अगर आप अस्वास्थ्यकर भोजन खाते हैं, तो आपका लिवर खराब हो जाता है।

10. अस्वास्थ्यकर भोजन भी बहुत सारी बीमारियों को जन्म देता है जैसे कि टाइफाइड, पीलिया, आदि।


600 Words Essay on Side Effects of Junk Food in Hindi | जंक फूड के साइड इफेक्ट पर निबंध 600 शब्द


जंक फूड बहुत हानिकारक है जो वर्तमान पीढ़ी के स्वास्थ्य को धीरे-धीरे दूर कर रहा है। यह शब्द ही बताता है कि यह हमारे शरीर के लिए कितना खतरनाक है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इसका स्वाद इतना अच्छा होता है कि लोग रोजाना इसका सेवन करते हैं। हालांकि, जंक फूड के हानिकारक प्रभावों के बारे में ज्यादा जागरूकता नहीं फैली है।

समस्या आपके विचार से अधिक गंभीर है। विभिन्न अध्ययनों से पता चलता है कि जंक फूड हमारे स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। इनमें कैलोरी, वसा और चीनी की मात्रा अधिक होती है। इसके विपरीत, उनके पास स्वस्थ पोषक तत्वों की बहुत कम मात्रा होती है और आहार फाइबर की कमी होती है। माता-पिता को अपने बच्चों को जंक फूड का सेवन करने से हतोत्साहित करना चाहिए क्योंकि इससे किसी के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

जंक फूड का प्रभाव

अस्वास्थ्यकर वजन बढ़ाने के लिए जंक फूड सबसे आसान तरीका है। भोजन में वसा और चीनी की मात्रा आपको तेजी से वजन बढ़ाती है। हालांकि, यह एक स्वस्थ वजन नहीं है। यह वसा और कोलेस्ट्रॉल की अधिक मात्रा है जिसका आपके स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ेगा। आजकल मोटापा बढ़ने का एक मुख्य कारण जंक फूड भी है।

यह भोजन केवल अच्छा दिखता है और अच्छा लगता है, इसके अलावा, इसका कोई सकारात्मक बिंदु नहीं है। आपके शरीर को फिट रहने के लिए कैलोरी की मात्रा इस भोजन से पूरी नहीं होती है। उदाहरण के लिए, फ्रेंच फ्राइज़, बर्गर, कैंडी और कुकीज़ जैसे खाद्य पदार्थ, सभी में उच्च मात्रा में चीनी और वसा होते हैं। इसलिए, इससे मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी दीर्घकालिक बीमारियां हो सकती हैं। इससे किडनी फेल भी हो सकती है।



इन सबसे ऊपर, आपको आवश्यक पोषक तत्वों, विटामिन, खनिजों और अधिक का उपभोग नहीं करने पर विभिन्न पोषण संबंधी कमियां मिल सकती हैं। ख़राब कोलेस्ट्रॉल और फैट प्लस सोडियम के सेवन से आपको हृदय रोगों का खतरा हो जाता है। दूसरे शब्दों में, यह सब आपके दिल के कामकाज में हस्तक्षेप करता है।

इसके अलावा, जंक फूड में कार्बोहाइड्रेट का उच्च स्तर होता है। यह आपके रक्त शर्करा के स्तर को तुरंत बढ़ा देगा। यह सुस्ती, निष्क्रियता और नींद में परिणाम देगा। एक व्यक्ति पलटा सुस्त हो जाता है और वे निष्क्रिय जीवन जीते हैं। चीजों को बदतर बनाने के लिए, जंक फूड आपकी धमनियों को भी बंद कर देता है और दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ा देता है। इसलिए, अपने जीवन को बर्बाद होने से बचाने के लिए इसे सबसे पहले टालना चाहिए। 

जंक फूड से बचने के तरीके

जंक फूड के साथ मुख्य समस्या यह है कि लोग अब इसके बुरे प्रभावों का एहसास नहीं करते हैं। जब समय आता है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। सबसे महत्वपूर्ण बात, मुद्दा यह है कि यह आपको तुरंत प्रभावित नहीं करता है। यह आपके ओवरटाइम पर काम करता है; आप जल्दी या बाद में परिणाम का सामना करेंगे। इस प्रकार, अब रोकना बेहतर है।


आप अपने बच्चों को कम उम्र से हरी सब्जियां खाने के लिए प्रोत्साहित करके जंक फूड से बच सकते हैं। उनकी स्वाद की कलियों को इस तरह विकसित किया जाना चाहिए कि वे स्वस्थ भोजन स्वादिष्ट लगें। इसके अलावा, चीजों को मिलाने की कोशिश करें। रोज एक ही हरी सब्जी को एक ही स्टाइल में न परोसें। विभिन्न व्यंजनों का पालन करते हुए विभिन्न प्रकार के स्वस्थ भोजन को अपने आहार में शामिल करें। यह उन्हें जंक फूड के प्रति आकर्षित होने के बजाय घर पर खाद्य पदार्थों की कोशिश करने में मदद करेगा।

संक्षेप में, उन्हें इससे पूरी तरह से वंचित न करें क्योंकि इससे मदद नहीं मिलेगी। बच्चों के पास इसका एक तरीका या दूसरा तरीका होगा। सुनिश्चित करें कि आप उन्हें सीमित मात्रा में और स्वस्थ समय पर जंक फूड दें।

Post a Comment

Previous Post Next Post